Tuesday, May 24, 2022

Breaking News

    रोडरेज मामले में सिद्धू को 1 साल कठोर कारावास की सजा, SC ने 34 साल पुराने केस में सुनाई सज़ा    ||   बिहार विधानसभा में कानून व्यवस्था को लेकर हंगामा, CPI-ML के 12 विधायकों को किया गया बाहर     ||   गौतमबुद्ध नगर के तीनों प्राधिकरणों के 49,500 करोड़ नहीं चुका रहीं रियल एस्टेट कंपनियां     ||   आंध्र प्रदेश: गुड़ी पड़वा के जश्न के दौरान भक्तों के बीच मंदिर में मारपीट, दुकानों में तोड़फोड़-आगजनी     ||   दिल्ली एयरपोर्ट पर रोके जाने के खिलाफ दिल्ली हाईकोर्ट पहुंचीं राणा अयूब     ||   सोनिया गांधी ने बोला केंद्र पर हमला, लगाया MGNREGA का बजट कम करने का आरोप     ||   केजरीवाल के आवास पर हमला: दिल्ली HC पहुंची AAP, एसआईटी गठन की मांग की     ||   राज्यसभा जा सकते हैं शिवपाल यादव! दो दिन से जारी है बीजेपी मुलाकातों का दौर     ||   यूपी हज समिति के अध्यक्ष बने मोहसिन रजा, राज्यमंत्री का भी दर्जा मिला     ||   दिल्ली: नई शराब नीति के विरोध में BJP, पटेल नगर समेत 14 जगहों पर शराब की दुकानें की सील     ||

केजरीवाल की PM मोदी से अपील - सर, Delhi MCD के चुनाव न टालें , ये सब जनतंत्र के लिए अच्छा नहीं

अंग्वाल न्यूज डेस्क

केजरीवाल की PM मोदी से अपील - सर, Delhi MCD के चुनाव न टालें , ये सब जनतंत्र के लिए अच्छा नहीं

नई दिल्ली । दिल्ली नगर निगमों के चुनाव टाले जानें दिल्ली के मुख्यमंत्री और आम आदमी पार्टी के संयोजक अरविंद केजरीवाल ने पीएम मोदी का नाम लेते हुए उनसे निगम चुनाव न टालने की अपील की । केजरीवाल ने कहा कि सर मैं हाथ जोड़कर आपसे अपील करता हूं कि अंतिम समय में निगम के चुनावों को न टाला जाए । यह जनतंत्र के लिए अच्छा संकेत नहीं है । इस दौरान उन्होंने चुनाव आयोग के अफसरों को भी आड़े हाथ लेते हुए कहा कि चुनावों की तारीखों का ऐलान होने से 1 घंटे पहले चुनाव टाल देने के पीछे के दबाव में मैं समझ सकता हूं , लेकिन ये अफसर जनता को उनपड़ डाले गए दबाव के बारे में बताएं , जनता आपके साथ है । 

विदित हो कि दिल्ली के तीनों नगर निगमों के चुनाव की तारीखों के ऐलान से पहले यह कहते हुए इन चुनावों को टाल दिया गया है कि केंद्र तीनों निगमों को एक करने पर विचार कर रही है । इस फैसले से बिफरे अरविंद केजरीवाल ने मीडिया के सामने आते हुए कहा कि अगर केंद्र एक नगर निगम बनाना चाहता है , तो वह तो चुनावों के बाद भी बनाया जा सकता है । लेकिन केंद्र सरकार ने सीधे किसी राज्य के राज्य चुनाव आयोग को चिट्ठी लिख चुनाव टालने के लिए कह दिया। लोगों के अंदर दो - तीन बात चल रही है , 7-8 साल से केंद्र में भाजपा की सरकार है , अगर इन्हें तीनों नगर निगमों को एक साथ करना था तो पहले क्यों नहीं किया , चुनावों की तारीखों का ऐलान होने से एक घंटा पहले चुनाव टाल दिए गए । अब लोग कह रहे हैं कि तीनों नगर निगमों को एक साथ करना महज एक बहाना है , इन्हें चुनाव टालना था । भाजपा को पता चला गया कि वह निगम चुनावों में हार रही है ।  

केजरीवाल बोले - दिल्ली में कुल 272 वार्ड हैं , अभी तीनों निगमों के काउंसलर (पार्षद) अपने अपने नगर निगमों में बैठते हैं । ऐसे में चुनाव टालने की जरूरत क्या है , नए काउंसलर जो आएंगे , वो अभी अपने अपने निगम ऑफिस में बैठ जाएंगे , और तीनों निगम एक साथ हो गए तो एक साथ बैठ जाएंगे । 

वह बोले - चुनाव आयोग केंद्र के सामने झुक गया , यह ठीक नहीं है , यह जनतंत्र के लिए ठीक नहीं , मेरी हाथ जोड़कर आपसे अपील है , कल न आप होंगे न मैं रहूंगा , लेकिन देश अहम है , अगर चुनाव आयोग पर दबाव डालकर चुनाव टाले जाते हैं तो यह अच्छा संकेत नहीं है , यह जनतंत्र के लिए अच्छा संकेत नहीं है , आप चुनाव न टालें।  


इस दौरान उन्होंने कहा कि अगर किसी विधानसभा चुनाव को यह कहते हुए टालने की बात कही जाए कि हम दो राज्यों को एक साथ करना चाहते हैं तो क्या चुनाव टाले जा सकते हैं । यह ठीक नहीं है । मैं यह नहीं जानता कि चुनाव आयोग के प्रमुख को ऐसी क्या धमकी दी गई कि वह 1 घंटे में चुनाव टालने को तैयार हो गए । मैं स्टेट इलेक्शन कमिशनर से भी कहना चाहूंगा कि आप भी दबाव में चुनाव टाल देंगे तो यह ठीक नहीं , आप बाहर आकर देश को उस दबाव के बारे में बता दें । यह देश आपके साथ है , जनतंत्र आपके साथ है । 

 

Todays Beets: