Saturday, September 26, 2020

Breaking News

   कप्तान धोनी ने IPL2020 की शुरुआत जीत से की,जानिये कैसे ?     ||   लखनऊ: यूपी में आकाशीय बिजली से हुई मौत के मामले में परिजनों को 4 लाख मुआवजा     ||   कोरोना काल में भाजपा सरकार ने अनेक ख्याली पुलाव पकाए, लेकिन एक सच भी था? -राहुल गांधी     ||   पिछले 6 महीने में भारत-चीन सीमा पर कोई घुसपैठ नहीं: राज्यसभा में गृह मंत्रालय का बयान     ||   राजस्थान: बूंदी में चंबल नदी में नाव डूबने से 6 लोगों की मौत, 12 लोगों को रेस्क्यू किया गया     ||   मुंबई: बच्चन परिवार को अतिरिक्त सुरक्षा मुहैया कराएगी मुंबई पुलिस     ||   राज्यसभा में BJP MP विनय सहस्रबुद्धे का बयान, महाराष्ट्र सरकार ही अवैध निर्माण का प्रतीक     ||   ग्रीनलैंड में सबसे बड़ा ग्लेशियर टूटा, चंडीगढ़ के बराबर बर्फ की चट्टान समुद्र में     ||   किसान बिल के विरोध पर बोले नड्डा- कांग्रेस पहले समर्थन में थी, अब राजनीति कर रही     ||   राजस्थान में फिर सियासी ड्रामा, BJP के बहाने गहलोत-पायलट में ठनी     ||

दिल्ली से मोतिहारी के लिए चली श्रमिक स्पेशल ट्रेन 4 दिनों तक यात्रियों को घुमाती रही , भूखे- प्यासे लोग बेहाल

अंग्वाल न्यूज डेस्क
दिल्ली से मोतिहारी के लिए चली श्रमिक स्पेशल ट्रेन 4 दिनों तक यात्रियों को घुमाती रही , भूखे- प्यासे लोग बेहाल

पटना । देश में प्रवासी मजदूरों के लिए चलाई जा रही श्रमिक ट्रेनों के हाल क्या है , इसकी बानगी कई ट्रेनों के अपने गंतव्य तक पहुंचने में नजर आई है । इसी क्रम में दिल्ली से बिहार के मोतिहारी के लिए चलाई गई ट्रेन का सफर यूं तो 30 घंटे का था , लेकिन इस ट्रेन में सवार मजदूरों को पिछले 4 दिनों से इधर- उधर घुमाया जा रहा है । चार दिन बाद अब जाकर यह ट्रेन बिहार के समस्तीपुर पहुंची है , जिसमें सवार लोगों का भूख प्यास से बुरा हाल नजर आया । पिछले 4 दिनों से इधर- उधर घुमाने के बाद आखिरकार अब ट्रेन बिहार पहुंची है, जिसमें सवार यात्री अब हंगामे पर उतारू हो गए हैं । 

असल में दिल्ली से बिहार के मोतिहारी के लिए 22 तारीख को एक ट्रेन चली थी । इस ट्रेन में सवार लोगों को मोतिहारी का टिकट भी दिया गया था । लेकिन इन ट्रेनों को ट्रैक पर तवज्जो नहीं दी जा रही , जिसके चलते इन्हें घुमा फिरा कर चलाया जा रहा है । कई बार तो इस ट्रेन को घंटे एक जगह पर खड़ा कर दिया गया। 

यूं तो यह सफर 30 घंटे का है , लेकिन इस ट्रेन को इतना घुमा फिरा कर बिहार पहुंचाया गया कि अब चौथे दिन यह ट्रेन बिहार के समस्तीपुर पहुंची है । कोरोना काल में जहां स्टेशनों पर कोई खाने पीने की व्यवस्था नहीं है , ऐसे में इस ट्रेन में सवार लोगों को भारी परेशानियों का सामना करना पड़ा है । 

दुखद बात यह है कि एक गर्भवती को ट्रेन में प्रसव पीड़ा हुई , जिसे ट्रेन से उतारा गया और बिना किसी मेडिकल सुविधा के इस महिला ने स्टेशन पर भी बच्चे को जन्म दिया। हालांकि बाद में रेलवे के अफसर अपनी गाड़ी से इस महिला को अस्पताल लेकर गए । 


वहीं समस्तीपुर पहुंची एक अन्य ट्रेन के यात्री ने बताया कि उसने पुणे में 22 मई को ट्रेन पकड़ी थी और छत्तीसगढ़, उड़ीसा, झारखंड, पश्चिम बंगाल की सैर कराते हुए ट्रेन 25 मई को दोपहर में समस्तीपुर पहुंची । इस ट्रेन से आए एक शख्स ने कहा कि स्टेशन पर ही ट्रेन

करीब 2-3 घंटे तक खड़ी हो जाती थी । इस प्रचंड गर्मी में परेशान यात्री कई जगहों पर आक्रोशित होकर तोड़फोड़ की घटना को अंजाम दे चुके हैं ।

इस घटनाक्रम पर रेलवे प्रशासन का कहना है कि ट्रैक खाली नहीं मिलने की वजह से रूट डायवर्ट किया जा रहा है । कोशिश की जा रही है कि मजदूरों को खाना- पानी दिया जा सके । 

Todays Beets: