Thursday, August 22, 2019

Breaking News

   Parle में छंटनी का संकट: मयंक शाह बोले- सरकार से अहसान नहीं मांग रहे     ||   ILFS लोन मामले में MNS प्रमुख राज ठाकरे से ED की पूछताछ    ||   दिल्ली: प्रगति मैदान के पास निर्माणाधीन इमारत में लगी आग    ||   मध्य प्रदेश: टेरर फंडिंग मामले में 5 हिरासत में, जांच जारी     ||   जिन्होंने 72 हजार देने का वादा किया था, वे 72 सीटें भी नहीं जीत पाए : मोदी     ||   प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 25 अगस्त को दिन में 11 बजे करेंगे मन की बात     ||   कोलकाता के पूर्व मेयर और TMC विधायक शोभन चटर्जी, बैसाखी बनर्जी BJP में शामिल     ||   गुजरात में बड़ा हमला कर सकते हैं आतंकी, सुरक्षा एजेंसियों का राज्य पुलिस को अलर्ट     ||   अयोध्या केस: मध्यस्थता की कोशिश खत्म, कल सुप्रीम कोर्ट में होगी सुनवाई     ||   पोंजी घोटाला: 14 दिन की न्यायिक हिरासत में भेजा गया आरोपी मंसूर खान     ||

हिमाचल के सरकारी स्कूलों में अब ये विषय नहीं पढ़ाए जाएंगे, छात्रों में मचा हड़कंप

अंग्वाल न्यूज डेस्क
हिमाचल के सरकारी स्कूलों में अब ये विषय नहीं पढ़ाए जाएंगे, छात्रों में मचा हड़कंप

शिमला। हिमाचल प्रदेश के सरकारी स्कूलों में पढ़ने वाले छात्रों के लिए काफी महत्वपूर्ण खबर है। अब 9वंी और 10वीं कक्षा के छात्रों को वोकेशनल एजूकेशन के तौर पर हेल्थ केयर, मीडिया एवं इंटरटेनमेंट विषय नहीं पढ़ाए जाएंगे। इसके बदले छात्रों को ड्राइंग, आईटी और अन्य विषय की शिक्षा दी जाएगी। फिलहाल वोकेशनल विषयों के हटाए जाने से स्कूलों में वोकेशनल विषय बदलने से स्कूलों के स्टाफ सदस्यों समेत विद्यार्थियों में भी हड़कंप मच गया है।

गौरतलब है कि वोकेशनल परियोजना निदेशक की ओर से विषयों के अचानक बदलाव से छात्रों को परेशानियों का सामना करना पड़ सकता है। राज्य परियोजना निदेशक ने शिक्षा विभाग के अधिकारियों को निर्देश दिए हैं कि स्कूलों में बच्चों को पढ़ाए जा रहे हेल्थ केयर, मीडिया एवं इंटरटेनमेंट के बजाय अन्य विषय पढ़ाए जाएं। 

ये भी पढ़ें - मध्यप्रदेश की जुवेनाइल कोर्ट ने दुष्कर्म के मामले में कायम की मिसाल, महज 7 घंटे के अंदर सुनाई सजा


यहां बता दें कि इसके लिए सभी प्रधानाचार्यों को पत्र भेजकर सूचित कर दिया गया है। शिक्षकों का मानना है कि स्कूल में शैक्षणिक सत्र 2018-19 का आधे से अधिक समय बीत जाने के बाद इसमें बदलाव करने से छात्रों को काफी परेशानियों का सामना करना पड़ेगा।  बताया जा रहा है कि प्रदेश सरकार ने छात्रों की परेशानियों को देखते हुए केंद्र सरकार को पत्र भी लिखा था लेकिन वहां से इसे मना कर दिया गया। 

 

Todays Beets: