Tuesday, July 16, 2019

Breaking News

   सूरत: सभी मोदी चोर कहने का मामला, 10 अक्टूबर को हो सकती है राहुल गांधी की पेशी     ||   मुंबई: इमारत गिरने पर बोले MIM नेता वारिस पठान- यह हादसा नहीं, हत्या है     ||   नीरज शेखर के इस्तीफे पर बोले रामगोपाल यादव- गुरु होने के नाते आशीर्वाद दे सकता हूं     ||   लखनऊ: खनन घोटाले में ED ने पूर्व खनन मंत्री गायत्री प्रजापति से पूछताछ की     ||   पोंजी घोटाला: पूछताछ के बाद बोले रोशन बेग- हज पर नहीं जा रहा, जांच में करूंगा सहयोग    ||    संसदीय दल की बैठक में PM मोदी ने कहा- जरूरत पड़ी तो सत्र बढ़ाया जा सकता है     ||   केंद्रीय कानून मंत्री रविशंकर प्रसाद ने बताया- सुप्रीम कोर्ट में जजों की कमी नहीं    ||    AAP नेता इमरान हुसैन ने बीजेपी नेता विजय गोयल और मनजिंदर सिंह सिरसा के खिलाफ की शिकायत    ||   राहुल गांधी के इस्तीफे पर केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी ने कहा- जय श्रीराम    ||   यूपी सरकार का 17 जातियों को SC की लिस्ट में डालने का फैसला असंवैधानिक: थावर चंद गहलोत    ||

फर्जी दस्तावेजों पर 22 सालों तक बना रहा प्रधानाध्यापक, मामला सामने आने पर हुआ फरार

अंग्वाल न्यूज डेस्क
फर्जी दस्तावेजों पर 22 सालों तक बना रहा प्रधानाध्यापक, मामला सामने आने पर हुआ फरार

देहरादून। उत्तराखंड में फर्जी दस्तावेजों के आधार पर सालों से नौकरी करने वाले एक और शिक्षक का पता चला है। मामला एसआईटी को सौंपे जाने के बाद से आरोपी शिक्षक फरार है। बताया जा रहा है कि सल्ट इलाके के राजकीय प्राथमिक विद्यालय भीताकोट (सिराली बूड़ाकोट) में प्रधानाध्यापक के पद पर पिछले 22 सालों से नौकरी कर रहा है। उसके प्रमाणपत्रों पर शक होने के बाद शिक्षा अधिकारी ने इसकी जांच एसआईटी को सौंपी। इसके बाद से ही आरोपी प्रधानाध्यापक फरार बताया जा रहा है। 

गौरतलब है कि एसआईटी की जांच में आरोपी प्रधानाध्यापक के हाईस्कूल एवं इंटमीडिएट के प्रमाण पत्र फर्जी मिले थे तब से वह निलंबित चल रहा है। आरोपी प्रधानाध्यापक 22 साल से दूसरे के रोल नंबर वाले प्रमाणपत्रों के सहारे नौकरी कर रहा था। एसआईटी को मामला सौंपे जोन की खबर के बाद से आरोपी शिक्षक फरार है। जिला शिक्षा अधिकारी के निर्देश के बाद राजस्व पुलिस ने आरोपी शिक्षक के खिलाफ मामला दर्ज कर लिया है। 

ये भी पढ़ें - हाईकोर्ट की सख्ती के बाद शिक्षकों ने आंदोलन लिया वापस, मांगों के पूरा होने की जताई उम्मीद


यहां बता दें कि उत्तराखंड के कई जिलों में फर्जी प्रमाणपत्रों के आधार पर नौकरी करने वालों का खुलासा हुआ था। इसमें सबसे ज्यादा हरिद्वार और ऊधमसिंह नगर में पाया गया था। आरोपी शिक्षकों के खिलाफ विभागीय कार्रवाई की संस्तुति कर दी गई है। बताया जा रहा है कि शिक्षक मूल रूप से उत्तरप्रदेश के बिजनौर का रहने वाला है। राजस्व पुलिस ने उसके खिलाफ धारा 420, 467 और 468 के तहत मामला दर्ज कर लिया है। 

Todays Beets: