Friday, April 23, 2021

Breaking News

   कोरोनाः यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ को लगाई गई वैक्सीन     ||   महाराष्ट्रः वसूली केस की होगी सीबीआई जांच, फडणवीस बोले- अनिल देशमुख दें इस्तीफा     ||   ड्रग्स केस में गिरफ्तार अभिनेता एजाज खान कोरोना पॉजिटिव, NCB टीम का भी होगा टेस्ट     ||   मथुराः लेफ्टिनेंट जनरल मनोज कुमार कटियार बने वन स्ट्राइक कोर के कमांडर     ||   कर्नाटकः भ्रष्टाचार के मामले की जांच पर स्टे, सीएम येदियुरप्पा को SC ने दी राहत     ||   छत्तीसगढ़ः नक्सल के खिलाफ लड़ाई अब निर्णायक चरण में, हमारी जीत निश्चित है- अमित शाह     ||   यूपीः पंचायत चुनाव में 5 से अधिक लोगों के साथ प्रचार करने पर रोक, कोरोना के कारण फैसला     ||   स्विटजरलैंड में चेहरा ढकने पर लगाई गई पाबंदी , मुस्लिम संगठनों ने जताई आपत्ति     ||   सिंघु बॉर्डर के नजदीक अज्ञात लोगों ने रविवार रात की हवाई फायरिंग, पुलिस कर रही छानबीन     ||   जम्मू कश्मीर - प्रोफेसर अब्दुल बरी नाइक को पुलिस ने किया गिरफ्तार, युवाओं को बरगलाने का आरोप     ||

सूबा,सूखा और सवाल

सूबा,सूखा और सवाल

उत्तराखंड में किसानों को इन दिनों मौसमकी मार झेलनी पड़ रही है। इस साल प्रदेश में बारिश नहीं होने के कारण काश्तकारोंकी फसल चौपट हो गयी है और उनके सामने रोजी-रोटी का संकट खड़ा हो गया है, हालात यह हैं कि किसानों के पास अपनीअगली फसल के लिए बीज की व्यवस्था करना भी मुश्किल हो गया है। इस सीजन में बारिश नहोने के कारण राज्य में गेहूं की फसल खराब हो रही है। जाड़ों के सीजन में अक्टूबरसे दिसंबर तक सामान्य रूप से 89 मिमी बारिश होती है, लेकिन इस मर्तबा इससे कम मिमी बारिशमापी गई। जनवरी तो अब तक बारिश के लिहाज से सूखा ही गुजरा। जाहिर है, इससे फसलों पर खतरा पैदा हो गया है।

सूखे के सित्तम से जूझ रहे राज्य मेंहालात धिरे-धिरे काबू से बाहर जाते जा रहे हैं। बारिश की आस में पल-पल आसमान की ओरनज़रें गड़ाए किसान यह उम्मीद लिए बैठा है कि अबतक मौसम की बेरूखी से जो नुकसानउसका हुआ है आखिर में उसकी भरपाई कर ली जाएगी। साथ ही उम्मीद की एक नज़र राज्यसरकार की ओर भी उठ रही है कि क्योंकि मौसम की मार के जो ज़ख्म उनके शरीर पर लग रहेहैं उनपर मुआवजे का मरहम लगाया जा सके।


राज्य में 95 में से 71 विकासखंडों मेंखेती बारिश पर निर्भर है। यानी समय पर बारिश हो गई तो ठीक, वरना बिन पानी सब सून। फिल्हाल, सूबे की कृषी योग्य ज़मीन बारिश न होनेके कारण सूखाग्रस्त है। ऐसे में बड़ा सवाल यह कि कैसे जिंदा रहें किसान ?

  

Todays Beets: