Friday, July 19, 2019

Breaking News

   सूरत: सभी मोदी चोर कहने का मामला, 10 अक्टूबर को हो सकती है राहुल गांधी की पेशी     ||   मुंबई: इमारत गिरने पर बोले MIM नेता वारिस पठान- यह हादसा नहीं, हत्या है     ||   नीरज शेखर के इस्तीफे पर बोले रामगोपाल यादव- गुरु होने के नाते आशीर्वाद दे सकता हूं     ||   लखनऊ: खनन घोटाले में ED ने पूर्व खनन मंत्री गायत्री प्रजापति से पूछताछ की     ||   पोंजी घोटाला: पूछताछ के बाद बोले रोशन बेग- हज पर नहीं जा रहा, जांच में करूंगा सहयोग    ||    संसदीय दल की बैठक में PM मोदी ने कहा- जरूरत पड़ी तो सत्र बढ़ाया जा सकता है     ||   केंद्रीय कानून मंत्री रविशंकर प्रसाद ने बताया- सुप्रीम कोर्ट में जजों की कमी नहीं    ||    AAP नेता इमरान हुसैन ने बीजेपी नेता विजय गोयल और मनजिंदर सिंह सिरसा के खिलाफ की शिकायत    ||   राहुल गांधी के इस्तीफे पर केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी ने कहा- जय श्रीराम    ||   यूपी सरकार का 17 जातियों को SC की लिस्ट में डालने का फैसला असंवैधानिक: थावर चंद गहलोत    ||

कांग्रेस के बजट पर गिरी 'बिजली' , पार्टी इकाइयों का बजट घटा, मुख्यालय में कई कर्मचारियों को नहीं मिली सैलरी

अंग्वाल न्यूज डेस्क
कांग्रेस के बजट पर गिरी

नई दिल्ली । लोकसभा चुनावों में हार के बाद से देश की सबसे पुरानी पार्टी कांग्रेस दिनों दिन अपना जनाधार खोती जा रही है । कर्नाटक - गोवा जैसे राज्यों में पार्टी के विधायक कांग्रेस का हाथ छोड़ भाजपा के कमल को थाम रहे हैं । पार्टी के भीतर आलम ये है कि कांग्रेस अध्यक्ष पद खाली पड़ा है । इसके साथ ही कई पार्टी महासचिवों और पदाधिकारियों ने लोकसभा चुनावों में मिली हार के बाद अपने पद से इस्तीफा दे दिया है । इस सब के बीच अब खबर है कि कांग्रेस पार्टी को आर्थिक तंगी से भी गुजरना पड़ रहा है । खबर है कि पार्टी की कार्यशैली इस कदर प्रभावित हो गई है कि पार्टी को अपने खर्चों में कटौती करनी पड़ रही है । इसी क्रम में पार्टी ने कई इकाइयों को दिए जाने वाले फंड में भी कटौती की है । 

सुप्रीम कोर्ट - कर्नाटक के स्‍पीकर को चीफ जस्टिस की फटकारा, बोले- क्‍या कोर्ट के अधिकारों को चुनौती दे रहे हैं

कांग्रेस मुख्यालय में कर्मचारियों को वेतन नहीं मिला

सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार , जब से लोकसभा चुनावों में पार्टी को कड़ी हार का सामना करना पड़ा है । पार्टी की कार्यशैली ही प्रभावित हो गई है । पार्टी मुख्यालय बिना कांग्रेस अध्यक्ष के हिल गया है । आलम ये है कि कांग्रेस मुख्यालय में काम रहे कर्मचारियों को हार के बाद अब तक वेतन नहीं मिला है । अभी मात्र संगठन के कर्मचारियों को ही समय पर वेतन मिला रहा है । हालाकि वहां मौजूद कर्मचारी अपने वेतन का इंतजार कर रहे हैं। इतना ही नहीं मुख्यालय में बैठने वाली सोशल मीडिया टीम भी इस समय खराब दौर से गुजर रही है । एक समय जहां टीम में 55 लोग थे , अब महज 35 के करीब ही रह गए हैं। इन लोगों को समय से वेतन मिल रहा है । 

इकाइयों को मासिक खर्च मिलेगा पहले से कम

जानकारी के अनुसार , पार्टी ने अपने मासिक खर्चों में भी कटौती करने का फैसला लिया है । इसी क्रम में उन्होंने अपनी सभी इकाइयों को दिए जाने वाले मासिक खर्चे में कटौती कर दी है । अगर बाद कांग्रेस सेवादल की करें तो इकाईँ को प्रतिमाह मासिक खर्च में तौर पर ढाई लाख रुपये मिलते थे लेकिन अब कहा जा रहा है कि सेवादल को मात्र 2 लाख रुपये दिए जाएंगे । इसी क्रम में महिला कांग्रेस, यूथ कांग्रेस और नेशनल स्टूडेंट्स यूनियन ऑफ इंडिया (एनएसयूआई) को भी अपने खर्चे कम करने के लिए कहा गया है । 


Google सुन रहा है आपकी निजी बातें , कंपनी ने स्पीकार किया भाषा वैज्ञानिक का दावा , यूजर्स की गोपनियता पर उठे सवाल

दरकती नजर आ रही है कांग्रेस

इस सब के बीच कांग्रेस पार्टी भी बिखरती नजर आ रही है । 134 साल पुरानी कांग्रेस पार्टी में शायद यह पहला मौका है जब इतने लंबे समय तक पार्टी अध्यक्ष पद खाली रहा हो । जहां पार्टी के कई पार्टी महासचिव ने अपने पद से इस्तीफा दे दिया है , वहीं बड़ी संख्या में पदाधिकारियों ने भी लोकसभा चुनावों में हार के बाद अपने पदों से इस्तीफा दे दिया था । कांग्रेस में नजर आती दरार इस कदर बढ़ रही है कि कांग्रेस शासित कर्नाटक में जहां विधायक पार्टी से इस्तीफा दे रहे हैं, वहीं गोवा जैसे राज्यों में पार्टी के आधे से ज्यादा विधायक भाजपा में शामिल हो गए हैं। कुछ ऐसा ही हाल तेलंगाना में भी । पार्टी को सबसे बड़ा झटका कर्नाटक में लग रहा है, जहां उनकी सरकार ही गिरने की कगार पर आ गई है ।

ममता बनर्जी ने विधायकों से कहा, अपनी गलतियों के जनता से मांगे माफी , पार्टी नेताओं को दिए 7 कॉरपोरेट मंत्र

 

Todays Beets: