Thursday, January 17, 2019

Breaking News

   ताबड़तोड़ एनकाउंटर पर योगी सरकार को SC का नोटिस, CJI बोले- विस्तृत सुनवाई की जरूरत     ||   तेहरान में बोइंग 707 किर्गिज कार्गो प्लेन क्रैश, 10 क्रू मेंबर की मौत     ||   PM मोदी बोले- जवानों के बाद किसानों की आंखों में धूल झोंक रही कांग्रेस     ||   PM मोदी बोले- हम ईमानदारी से कोशिश करते हैं, झूठे सपने नहीं दिखाते     ||   कुशल भ्रष्टाचार और अक्षम प्रशासन का मॉडल है कांग्रेस-कम्युन‍िस्ट सरकार-PM मोदी     ||   CBI: राकेश अस्थाना केस में द‍िल्ली हाई कोर्ट में सुनवाई 20 द‍िसंबर तक टली     ||   बैडम‍िंटन खि‍लाड़ी साइना नेहवाल ने पी कश्यप से की शादी     ||   गुलाम नबी आजाद ने जीवन भर कांग्रेस की गुलामी की है: ओवैसी     ||   बाबा रामदेव रांची में खोलेंगे आचार्यकुलम, क्लास 1 से क्लास 4 तक मिलेगी शिक्षा     ||   मैंने महिलाओं व अन्य वर्गों के लिए काम किया, मेरा काम बोलेगा: वसुंधरा राजे     ||

फेसबुक ने विकसित की आर्टीफिशियल इंटेलिजेंस तकनीक, यूजर्स को आत्महत्या से बचाएगा

अंग्वाल न्यूज डेस्क
फेसबुक ने विकसित की आर्टीफिशियल इंटेलिजेंस तकनीक, यूजर्स को आत्महत्या से बचाएगा

नई दिल्ली। सोशल मीडिया पर आत्महत्या के लाइव वीडियो के मामले के बाद फेसबुक ने इससे बचाव के तरीके निकालने के काम को तेज कर दिया है। फेसबुक ने एक ऐसा साॅफ्टवेयर, 'आर्टीफिशियल इंटेलिजेंस' तैयार किया है जो आत्महत्या करने वाले यूजर्स के पोस्ट को स्कैन करने का काम शुरू कर दिया है। अमेरिका में इस साॅफ्टवेयर का परीक्षण भी कर लिया हैै। अब वह इसके विस्तार पर काम कर रहा है।

मानसिक सुविधा

आपको बता दें कि फेसबुक ने अपनी वाॅल पर आर्टीफिशियल इंटेलिजेंस (एआई) के जरिए उन पोस्ट की स्कैनिंग करना शुरू कर दिया है जो आत्महत्या के विचारों से प्रेरित थी। अब इस साॅफ्टवेयर के विस्तार का काम शुरू कर दिया है। इसके जरिए वह दूसरे देशों के यूजर्स की उन पोस्टों की खोज करेगी जिनमें आत्महत्या जैसे विचार आ रहे हों। फेसबुक ने यह भी कहा कि जरूरत पड़ने पर वह यूजर्स को मानसिक शांति की सुविधा भी उपलब्ध कराएगी। हालांकि फेसबुक ने इस साॅफ्टवेयर को लेकर फिलहाल अधिक तकनीकी जानकारी मुहैया नहीं कराई है।


ये भी पढ़ें - ग्राहकों की होगी बल्ले-बल्ले, एयरटेल ने लाॅन्च किया ‘सबकुछ मिलेगा-सबको मिलेगा प्लान’

एआई तकनीक

आपको बता दें कि फेसबुक उपाध्यक्ष गेयेई रोजेन ने बताया कि अमेरिका में इस साॅफ्टवेयर का परीक्षण सफल  रहा है। रोजेन के मुताबिक कंपनी अब उन देशों में सबसे पहले विस्तार कार्यक्रम के तहत काम करना शुरू करेगी जहां सबसे अधिक आत्महत्याएं होती हैं इनमें विकसित देश खासतौर पर शामिल हैं। फेसबुक का दावा है कि वह ‘एआई’ तकनीकी द्वारा यूजर्स की उन सभी पोस्टों की पहचान कर लेगी जिन में आत्महत्या की आशंका वाले विचार शामिल हों। 

Todays Beets: