Sunday, February 18, 2018

Breaking News

   98 साल की उम्र में MA करने वाले राज कुमार का संदेश, कहा-हमेशा कोशिश करते रहें     ||   मुंबई स्टॉक एक्सचेंज ने पार किया 34000 का आंकड़ा, ऑफिस में जश्न का माहौल     ||   पं. बंगाल: मालदा से 2 लाख रुपये के फर्जी नोट बरामद, एक गिरफ्तार    ||   सेक्स रैकेट का भंड़ाभोड़: दिल्ली की लेडी डॉन सोनू पंजाबन अरेस्ट    ||   रूपाणी कैबिनेट: पाटीदारों का दबदबा, 1 महिला को भी मंत्रिमंडल में मिली जगह    ||   पशु तस्करों और पुलिस में मुठभेड़, जवाबी गोलीबारी में एक मरा, घायल गायें बरामद    ||   RTI में खुलासा- भगत सिंह-राजगुरु-सुखदेव को अब तक नहीं मिला शहीद का दर्जा, सरकारी किताब में बताया गया 'आतंकी'     ||    गुजरात चुनाव: रैली में बोले BJP नेता- दाढ़ी-टोपी वालों को कम करना पड़ेगा, डराने आया हूं ताकि वो आंख न उठा सकें    ||   मध्य प्रदेश: बाबरी विध्वंस पर जुलूस निकाल रहे विहिप-बजरंग दल कार्यकर्ता पर पथराव, भड़क गई हिंसा    ||   बैंक अकाउंट को आधार से जोड़ने की तारीख बढ़ी, जानिए क्या है नई तारीख    ||

फेसबुक ने विकसित की आर्टीफिशियल इंटेलिजेंस तकनीक, यूजर्स को आत्महत्या से बचाएगा

अंग्वाल न्यूज डेस्क
फेसबुक ने विकसित की आर्टीफिशियल इंटेलिजेंस तकनीक, यूजर्स को आत्महत्या से बचाएगा

नई दिल्ली। सोशल मीडिया पर आत्महत्या के लाइव वीडियो के मामले के बाद फेसबुक ने इससे बचाव के तरीके निकालने के काम को तेज कर दिया है। फेसबुक ने एक ऐसा साॅफ्टवेयर, 'आर्टीफिशियल इंटेलिजेंस' तैयार किया है जो आत्महत्या करने वाले यूजर्स के पोस्ट को स्कैन करने का काम शुरू कर दिया है। अमेरिका में इस साॅफ्टवेयर का परीक्षण भी कर लिया हैै। अब वह इसके विस्तार पर काम कर रहा है।

मानसिक सुविधा

आपको बता दें कि फेसबुक ने अपनी वाॅल पर आर्टीफिशियल इंटेलिजेंस (एआई) के जरिए उन पोस्ट की स्कैनिंग करना शुरू कर दिया है जो आत्महत्या के विचारों से प्रेरित थी। अब इस साॅफ्टवेयर के विस्तार का काम शुरू कर दिया है। इसके जरिए वह दूसरे देशों के यूजर्स की उन पोस्टों की खोज करेगी जिनमें आत्महत्या जैसे विचार आ रहे हों। फेसबुक ने यह भी कहा कि जरूरत पड़ने पर वह यूजर्स को मानसिक शांति की सुविधा भी उपलब्ध कराएगी। हालांकि फेसबुक ने इस साॅफ्टवेयर को लेकर फिलहाल अधिक तकनीकी जानकारी मुहैया नहीं कराई है।


ये भी पढ़ें - ग्राहकों की होगी बल्ले-बल्ले, एयरटेल ने लाॅन्च किया ‘सबकुछ मिलेगा-सबको मिलेगा प्लान’

एआई तकनीक

आपको बता दें कि फेसबुक उपाध्यक्ष गेयेई रोजेन ने बताया कि अमेरिका में इस साॅफ्टवेयर का परीक्षण सफल  रहा है। रोजेन के मुताबिक कंपनी अब उन देशों में सबसे पहले विस्तार कार्यक्रम के तहत काम करना शुरू करेगी जहां सबसे अधिक आत्महत्याएं होती हैं इनमें विकसित देश खासतौर पर शामिल हैं। फेसबुक का दावा है कि वह ‘एआई’ तकनीकी द्वारा यूजर्स की उन सभी पोस्टों की पहचान कर लेगी जिन में आत्महत्या की आशंका वाले विचार शामिल हों। 

Todays Beets: