Monday, November 20, 2017

Breaking News

   मैदान पर विराट के आक्रामक रवैये पर राहुल द्रविड़ को सताई चिंता     ||   अजहर को अंतर्राष्ट्रीय आतंकी घोषित नहीं करेगा चीन, प्रस्ताव पर रोक लगाने के संकेत     ||   दुनिया की सबसे लंबी सुरंग बनाकर चीन अब ब्रह्मपुुत्र नदी का पानी रोकने का बना रहा है प्लान     ||   पीएम मोदी को शीला दीक्षित ने दिया जवाब- हमने नहीं भुलाया पटेल का योगदान    ||   पटना पहुंचे मोहन भागवत, यज्ञ में भाग लेने जाएंगे आरा, नीतीश भी जाएंगे    ||   अखिलेश को आया चाचा शिवपाल का फोन, कहा- आप अध्यक्ष हैं आपको बधाई    ||   अमेरिका में सभी श्रेणियों में H-1B वीजा के लिए आवश्यक कार्रवाई बहाल    ||   रोहिंग्या पर किया वीडियो पोस्ट, म्यांमार की ब्यूटी क्वीन का ताज छिना    ||   अब गेस्ट टीचरों को लेकर CM केजरीवाल और LG में ठनी    ||   केरल में अमित शाह के बाद योगी की पदयात्रा, राजनीतिक हत्याओं पर लेफ्ट को घेरने की रणनीति    ||

इंटरनेट एक सुविधा या खतरा, पढ़े पूरी रिपोर्ट

अंग्वाल संवाददाता
इंटरनेट एक सुविधा या खतरा, पढ़े पूरी रिपोर्ट

 नई दिल्ली। हर समय ऑनलाइन रहने वाले लोग एक अजीबो-गरीब बीमारी का शिकार होते जा रहा हैं। इस बीमारी से उनका व्यक्तित्व और मानसिक स्थिति पूर्ण रूप से इंटरनेट की कैद में जा रही है। इतना ही नहीं अब इस बीमारी के शिकार युवाओं के साथ-साथ बच्चे भी होने लगे हैं। लोग इंटरनेट पर अब अपने सुबह उठने से लेकर रात को सोने तक की छोटी सी जानकारी भी सोशल नेटवर्किंग साइट पर शेयर करने लगे हैं, जिससे उनकी निजी जिंदगी अब निजी नहीं रह गई है। पूरे दिन में वे क्या पहनते हैं, क्या खाते हैं और किससे मिलते हैं इन सब जानकारियों को पोस्ट करने के लिए वे उत्सुक रहते हैं।

इसी के साथ बच्चे भी फोन पर गेम्स खेलने और हर समय सोशल साइट्स पर व्यस्त रहने लगे हैं। हर वक्त ऑनलाइन रहने से यह लोग धीरे-धीरे मानसिक रुप से इन साइट्स के आदि हो जाते हैं। अगर ऐसे में उन्हें एक दिन भी मोबाइल से दूर रहने के लिए कहा जाएं तो वह असहज-सा महसूस करने लगते हैं और उनके लिए अपना समय बीतना कठिन हो जाता है। इंटरनेट अब सुविधा के साथ भारत के लोगों के लिए खतरा बनता जा रहा है। जो  चिंता का एक कारण बन गया है।

यह भी पढ़े- facebook, whatsapp और instagram ने दूर किया टीवी-न्यूज पेपर से : एसोचैम

 

 

आदतों में बदलाव

लोग अब बाजार में जाकर शॉपिंग करने के बजाय ऑनलाइन शॉपिंग वेबसाइट से शॉपिंग करने लगे हैं। इतना ही नहीं वह खाना खाने के लिए भी बाहर जाने से के बजाए घर मंगाकर खाना पंसद करने लगे हैं। लोगों ने अपने आप को दिलासा देना शुरू कर दिया है कि इससे उनका समय बचेगा, लेकिन ऐसे में उनकी आदतें बदलने लगती हैं और उन्हें इन आदतों की लत लग जाती है।

यह भी पढ़े- सोशल मीडिया अकाउंट से एप्स में लॉग-इन करने से हो सकती हैं आपकी डिटेल्स पब्लिक 

 

सबसे से दूर होना


सोशल नेटवर्किंग साइट्स ने यूं तो हमें लोगों से जोड़ दिया है, लेकिन इनके बढ़ते इस्तेमाल से लोग अपनी एक अलग ही दुनिया बनाते चले जा रहे हैं। वह सोशल साइट्स पर सबसे जुड़े रहते हैं परन्तु असलियत में खुद को सबसे अलग करते लेते हैं। इसके चलते परिवार में सभी सदस्य के बीच दूरी बनती देखी जा रही है। वह आपस में एक-दूसरे के साथ समय बिताने के बजाए अलग रहना ज्यादा पसंद करते हैं।

यह भी पढ़े- Smartphone ने बदल दिया लोगों के चलने का तरीका, जानिए क्या आईं खामियां

 

 

जानलेवा खतरों में वृद्धि

ऑनलाइन ऐसे कई गेम एप हैं, जो यूजर्स को खेलने के लिए कई चैलेंज देती हैं। यूजर्स चैलेंज को इतना गंभीर ले लेते हैं कि वह उनके लिए जानलेवा बन जाते हैं। हाल ही में इसे जुड़ा एक मामला भी सामने आया है, जिसमें 14 वर्षीय मनप्रीत ने ब्लू व्हेल के गेम चैलेंज के कारण छत से कूद गया जिसके चलते उसकी मौत हो गई। यह गेम एप की तरफ से आपको रोजाना एक टास्क के तौर पर चैलेंज दिए जाते हैं, जिनको पूरा करने में हम इतना खो जाते हैं कि हम खुद पर काबू खो देते हैं।

 

 

 

Todays Beets: